Sun. May 22nd, 2022
Sukanya Samriddhi Yojona

Sukanya Samriddhi Yojona : हालांकि भारत आर्थिक रूप से आगे है,

फिर भी देश के अधिकांश हिस्सों में लड़कियां पिछड़ रही हैं।

जब लड़कियां पीछे छूट जाती हैं तो पूरा देश पीछे छूट जाता है।

इसलिए केंद्र सरकार ने महिलाओं की आत्मनिर्भरता और

आर्थिक स्वतंत्रता के मुद्दे को साकार करते हुए सुकन्या समृद्धि योजना शुरू की।

इस परियोजना से जुटाई गई राशि से लड़कियों की शिक्षा का मार्ग प्रशस्त होगा।

विवाह का समय और आर्थिक सहयोग भी मिलेगा।

लड़कियों के जन्म के बाद उनकी शादी के बारे में सोचने एक आम बात है।

और यह एक कठोर सच्चाई है। देश के कई हिस्सों में लड़कियों की स्थिति अभी भी कन्यादान तक ही सीमित है।

जन्म देने के डर से किसी लड़की की हत्या करना कोई असामान्य बात नहीं है। वहीं दूसरी ओर एक और हकीकत है।

लड़की के माता-पिता अपनी बेटी की उच्च शिक्षा को लेकर चिंतित हैं। उनका परिवार उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है।

इसलिए शिक्षा हो या शादी का मकसद जो भी हो, केंद्र सरकार ने लड़कियों को ध्यान में रखकर नई परियोजनाओं की शुरुआत की है।

इस नए प्रोजेक्ट का नाम सुकन्या समृद्धि योजना है। परियोजना का उद्देश्य बालिकाओं की भविष्य की शिक्षा और शादी के खर्च के लिए धन जुटाना है।

यह परियोजना 22 जनवरी, 2015 को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा ‘बेटी बचाओ, बेटी शिक्षित करो’ अभियान के हिस्से के रूप में शुरू की गई थी।

इस योजना की वर्तमान ब्याज दर 8.4% और लाभ मार्जिन है। यह खाता किसी भी भारतीय डाकघर या अधिकृत बैंक शाखा में खोला जा सकता है।

12 दिसंबर 2019 को सुकन्या समृद्धि खाता नियम 2016 को रद्द कर नया ‘सुकन्या समृद्धि खाता परियोजना, 2019’ शुरू किया गया है।

Sukanya Samriddhi Yojona के बारे में एक नजर में:

सुकन्या समृद्धि योजना, एक छोटी बचत योजना हैं।

भारत में प्रत्येक बालिका को बचाने के लिए ‘बेटी बचाओ, बेटी शिक्षित करो’ अभियान के हिस्से के रूप में शुरू की गई थी।

इस योजना के तहत केवल बेटियों के माता-पिता ही खाता खोल सकते हैं।

कुछ मामलों में, यदि बेटी के पिता नहीं हैं,

तो कानूनी अभिभावक भी लड़की की ओर से खाता खोल सकता है।

जब तक आपके माता-पिता चाहें खाते का प्रबंधन कर सकते हैं।

हालाँकि, जब बेटी 18 वर्ष की हो जाती है, तो उसे अपना खाता संचालित करने का अधिकार होगा।

Sukanya Samriddhi Yojona खाता कब तक वैध रहेगा ?

सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने की तारीख से 21 साल के लिए वैध होगा।

दूसरे शब्दों में, मान लें कि जब एक लड़की 10 साल की हो जाती है, तो उसके पिता ने अपनी बेटी के नाम पर खाता खोला,

तब से जब तक लड़की 31 साल की नहीं हो जाती, यह खाता मान्य होगा।

सुकन्या समृद्धि योजना खाते में कितना पैसा जमा किया जा सकता है?

Sukanya Samriddhi Yojona खाते में कम से कम 1000 रुपये से आप जमा कर सकते हैं।

इस खाते में एक साल में अधिकतम 1.5 लाख रुपये जमा किए जा सकते हैं।

Sukanya Samriddhi Yojona में पैसा जमा करना क्यों जरूरी है?

केंद्र सरकार की सुकन्या समृद्धि योजना का उद्देश्य बालिकाओं की शिक्षा या विवाह के लिए बचाए गए धन पर अधिक ब्याज देना है।

वित्तीय वर्ष 2014-2015 में सुकन्या समृद्धि योजना के खाते पर ब्याज दर 9.10% थी।

फिर से अगले साल यानी वित्तीय वर्ष 2015-2016 में ब्याज दर 9.20% है।

फलस्वरूप, इस सुकन्या समृद्धि योजना के खाते में पैसा जमा करना अधिक लाभदायक है।

सुकन्या समृद्धि योजना में पैसा जमा करने पर क्या आय पर छूट मिलेगी ?


केंद्र सरकार की सुकन्या समृद्धि योजना में अगर कोई पिता पैसा रखता है ।

तो उसे इनकम टैक्स में बड़ी छूट मिल सकेगी।

उदाहरण के तौर पर मान लेते हैं कि किसी के पास 60,000 रुपये की FD या फिक्स्ड डिपॉजिट है।

इसके अलावा उसने किसी वित्तीय वर्ष में सुकन्या समृद्धि योजना के

तहत सुकन्या समृद्धि खाते में एक लाख रुपये जमा किए होंगे।

ऐसे में उस साल उसकी बचत का कुल निवेश एक लाख 60 हजार रुपये है ।

यह राशि 80सी द्वारा परिभाषित डेढ़ लाख रुपये से अधिक है। तो अतिरिक्त राशि 10,000 रुपये से अधिक आयकर है।

Read Now – Sukanya Samriddhi Yojona Account open कैसे किया जाता है ? पूरी जानकारी इस आर्टिकल में

क्या सुकन्या समृद्धि योजना खाते से समय से पहले पैसे निकाल सकते हैं?

नहीं। क्योंकि केंद्र सरकार का यह प्रोजेक्ट एक खास मकसद से बनाया गया है ।

तो अगर आपको निर्धारित समय से पहले पैसे निकालने की जरूरत है,

तो आइए जानते है कि इसके लिए क्या करना होता है।

  1. जब तक लड़की का उम्र 18 साल का नहीं होता है तबतक इस सुकन्या समृद्धि योजना के खाते से एक भी पैसा नहीं निकाला जा सकता है।
  2. अगर बेटी को 18 साल बाद पैसा निकालना है तो कुल जमा राशि का 50 प्रतिशत निकाला जा सकता है। इससे ज्यादा नहीं।
  3. इस पैसे को केवल एक ही उद्देश्य के लिए निकाला जा सकता है। अगर लड़की को पढ़ाई के लिए पैसों की जरूरत है, तभी 50 फीसदी पैसा निकासी की जा सकता है। किसी अन्य कारण से निकासी की अनुमति नहीं है।

अगर किसी दुर्घटना में लड़की की मृत्यु हो जाती है, तो उस स्थिति में क्या होगा?

दुर्घटना ही नहीं, अगर किसी कारण से बेटी की मृत्यु हो जाती है,

तो उस दुखद स्थिति में सुकन्या समृद्धि योजना के खाते में पैसा वापस कर दिया जाएगा।

उस स्थिति में लड़की के पिता या अभिभावक को लड़की की मौत की सूचना देनी चाहिए।

फिर सुकन्या समृद्धि योजना का खाता बंद कर दिया जाएगा।

और जब तक पैसा जमा होता रहेगा, ब्याज सहित सारा पैसा मृतक लड़की के पिता या अभिभावक को दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status