Sun. May 22nd, 2022
Pradhan Mantri Jan Aushadhi Yojona

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना (Pradhan Mantri Jan Aushadhi Yojona) – स्वास्थ्य देखभाल देश का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है।

देश के बड़े हिस्से में लोगों के पास अभी भी सस्ती स्वास्थ्य सेवा नहीं है।

इसलिए उन सभी लोगों को ध्यान में रखते हुए, प्रधानमंत्री जन औषधि योजना केंद्र की एक नई परियोजना है ।

जो सस्ती कीमतों पर अच्छी गुणवत्ता वाली दवाएं उपलब्ध कराती है।

भारत सरकार के इस प्रोजेक्ट में आम लोगों को आसानी से और सस्ते में दवा मिल जाएगी।

समय के साथ कमोडिटी की कीमतें लगातार बढ़ रही हैं।

इसके साथ ही दवा के दाम बढ़ते जा रहे हैं। स्वास्थ्य देखभाल की लागत भी बढ़ रही है।

लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि बीमारी नहीं आएगी।

ऐसे में सस्ती कीमत पर अच्छी गुणवत्ता वाली दवा मिलना बहुत जरूरी है।

केंद्र सरकार का नया प्रोजेक्ट लोगों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए आया है ।

औषधि विभाग के प्रधान मंत्री जन औषधि योजना ने खरीदारों और विक्रेताओं दोनों के बारे में सोचा है।

इससे उपभोक्ताओं के साथ-साथ फार्मासिस्टों को भी फायदा होगा। परियोजना अक्टूबर 2015 में शुरू की गई थी।

बहुत से लोग पहले ही इस परियोजना से आच्छादित हो चुके हैं।

वे केंद्रीय सहयोग से परियोजना के आम लोगों की सेवा कर रहे हैं।

Pradhan Mantri Jan Aushadhi Yojona के दौरान दवा की दुकान खोलने के लिए कौन पात्र है ?

मूल रूप से एक शर्त एक फार्मासिस्ट पर लागू होती है जो एक व्यक्ति के लिए एक सार्वजनिक दवा की दुकान खोलने के लिए आवेदन करती है।

उसके पास दुकान खोलने के लिए जगह और आर्थिक साधन होने चाहिए।

दवा की दुकान से किस प्रकार की दवा प्राप्त की जा सकती है और इसकी कीमत क्या होगी ?

लगभग सभी प्रकार की चिकित्सीय दवाएं किसी भी दवा की दुकान पर मिल सकती हैं।

इस BPPI का एकमात्र उद्देश्य सरकारी वेबसाइट पर सार्वजनिक चिकित्सा योजना में दवाओं की सूची दर्ज करना है।

जन औषधि की आधिकारिक वेबसाइट पर पहले से सूचीबद्ध दवाओं की सूची को अपडेट किया जा रहा है।

Read Now – Sukanya Samriddhi Yojona – सुकन्या समृद्धि योजना से मिलेगा आर्थिक मदद

सार्वजनिक चिकित्सा योजना में जेनेरिक दवाओं का क्या अर्थ है ?

सीधे शब्दों में कहें, जेनेरिक दवाएं ऐसी दवाएं हैं जो किसी विशेष ब्रांड से संबंधित नहीं हैं।

फलस्वरूप, उसके पास विरोधी हैं। हालांकि, यह नहीं भूलना चाहिए कि जेनेरिक दवाएं काफी सस्ती हैं।

फार्मास्यूटिकल्स डिवीजन एक विशेष भारतीय समूह है जिसे फार्मा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग ब्यूरो (BPPI) के रूप में जाना जाता है,

जो जन औषधि योजना के तहत पूरे ऑपरेशन के लिए जिम्मेदार है।

यह इन जेनेरिक दवाओं की पूरे देश में मार्केटिंग और आपूर्ति करने का काम करेगी।

कितनी फार्मेसियां ​​खोली गई हैं ?

अब तक करीब 164 फार्मेसियां ​​खोली जा चुकी हैं। हालांकि, इनमें से केवल 7 दुकानें ही चालू हैं।

उन दुकानों की सूची इस परियोजना की आधिकारिक वेबसाइट पर भी देखी जा सकती है।

सरकारी दवा दुकानों के खुलने और बंद होने का समय सुबह 8 बजे से रात 8 बजे तक रहेगा।

फार्मेसी खोलने के लिए क्या आवश्यकताएं हैं ?

आइए एक नजर डालते हैं कि दवा की दुकान खोलने के लिए क्या करना पड़ता है।

  1. जहां दवा भंडार खुले हैं, वहां आवेदकों के पास अपना स्थान होना चाहिए। संपत्ति या स्थान किराए पर या पट्टे पर लिया जा सकता है।
  2. दुकान के लिए न्यूनतम आवश्यक स्थान 120 वर्ग फुट होगा। इस न्यूनतम हिस्से की माप बीपीपीआई द्वारा मानी गई है।
  3. आवेदक के पास उपयुक्त प्राधिकारी से प्राप्त एक सक्रिय टिन बिक्री लाइसेंस संख्या होनी चाहिए। ड्रग लाइसेंस होना भी जरूरी है।
  4. आवेदक को पिछले तीन वर्षों का वित्तीय लेखा-जोखा दिखाना होगा। कितना पैसा खरीदा गया है, कितना पैसा बेचा गया है, सभी खाते बैंक खाते में कैसे हैं, पूरी प्रक्रिया पारदर्शी होनी चाहिए।

सरकारी दवा की दुकान खोलने में कैसे मदद करेगी सरकार ?

सरकार किसी भी फार्मेसी को खोलने के लिए कंप्यूटर हार्डवेयर और अन्य ढांचागत वस्तुओं की खरीद के लिए 50,000 रुपये से 200,000 रुपये तक की सहायता प्रदान करेगी।

सार्वजनिक दवा भंडार से दवा खरीदने पर खरीदार विशेष छूट प्राप्त कर सकेंगे।

एमआरपी पर कम से कम 18 फीसदी का डिस्काउंट बताया गया है ।

इसके अलावा, दुकानों के मालिकों को लाभ मार्जिन का भी ध्यान रखना होगा।

दवा की दुकान खोलने की प्रक्रिया क्या है ?


बीपीपीआई, राज्य सरकार ने अपने-अपने राज्यों में सार्वजनिक दवा भंडार खोलने और पूरी प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के साथ समन्वय करने का निर्देश दिया है ।

ऐसी जगह खरीदारी करें जहां ओपीडी के मरीज आसानी से प्रवेश कर सकें और क्षेत्र में पहले से स्थापित अस्पतालों के पास एक विशिष्ट क्षेत्र में खुल सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

DMCA.com Protection Status